उम्मीद

Posted By Geetashree On 3:34 AM
मैं इस दुनिया से आत्मीय रिश्ता जोड़ना चाहती हूं...उम्मीद है जल्दी ही धमाकेदार विचारो के साथ मैं अवतार लूंगी। निरभय..निरगुण..गुण रे गाऊंगी...।
avinash
March 20, 2007 at 10:48 AM

धमाकेदार शुरुआत हो गयी है। अनायास-अनौपचारिक तरीके से ब्‍लॉग की दुनिया में लगातार हस्‍तक्षेप करें। युनिकोड हिंदी फॉन्‍ट कोई समस्‍या नहीं है। आप यहां http://www.zshare.net/download/hindi-toolkit-zip.html से हिंदी टूल किट डाउनलोड करें। इनपुट लैंग्‍वेज़ आये, तो उसमें एड क्लिक करें। ऊपर हिंदी (हिंदी ट्रेडिशनल नहीं) सलेक्‍ट करें और नीचे हिंदी आईएमई (सबसे नीचे मिलेगा) सलेक्‍ट करें। फिर ओके करके रिस्‍टार्ट करें दें। आपके डेस्‍कटॉप पर हर तरह यूनिकोड में टाइप करने की सुविधा आपको मिल जाएगी। फिर तो कुमार साहब से भी चढ़ी आवाज़ में गा सकेंगी... निर्भय निरगुन गुन रे गाऊंगी... गाऊंगी...

avinash
March 20, 2007 at 10:51 AM

एक मेल नारद को sunonarad@gmail.com पर करें। ये एक अच्‍छा समूह है, जहां हिंदी ब्‍लॉग्‍स अपडेट फ्लैश होते रहते हैं। फिर आप जब भी कुछ लिखेंगी, उसे नारद से जुड़े हज़ारों पाठक मिल जाएंगे। नारद का पता है http://narad.akshargram.com/ इस साइट पर जाकर आप अपने ब्‍लॉग का रजिस्‍ट्रेशन भी करवा सकते हैं।

shashikant awasthi
September 1, 2007 at 5:34 AM

नारद ब्‍लाग वास्‍तव में अपना मुख्‍य पत्र है जिसमें आप अपने विचार जैसे चाहे वैसे रखें लेकिन इन ब्‍लागरों से एक निवेदन अवश्‍य करना चाहूंगा कि उपरोक्त ब्‍लाग का प्रयोग एक स्‍वस्‍थ्‍य परिचर्चा व महात्वपूर्ण विषयों/राष्‍ट्रीय/अन्‍तर्राष्‍ट्रीय के साथ ही स्‍थानीय मुद्दो में एक गंभीर एवं सार्थक बहस का जरिया बनें । मु्झे मेंरे ई-मेल awasthi.shashikant@gmail.com पर भी मेल कर सकते है । अगर आप हिन्‍दी फॉन्ट का अधिकाअधिक प्रयोग करेगें तो मुझे प्रसन्नता होगी ।
शशिकान्‍त अवस्‍थी

कुमार आलोक
June 13, 2008 at 10:49 PM

आपके धमाके का इंतजार है ...स्वागत है व्लागरों की महफील में ....